भाभी की चुदाई गोवा में – भाग २

हैल्लो दोस्तों.. में रोहन एक बार फिर हाजिर हूँ इस कहानी का दूसरा भाग लेकर. तो दोस्तों फिर में सुबह 9 बजे उठा और फ्रेश होकर ब्रेकफास्ट किया और फिर में वापस अपने रूम में चला गया, फिर 11 बजे मुझे भाभी का कॉल आया कि मेरे रूम में आ जाओ. तो फिर जैसे ही में भाभी के रूम में पहुंचा तो भाभी ने दरवाजा खोला और में जैसे ही अंदर गया. भाभी ने मुझे पकड़कर किस किया और कहा कि रोहन, आज तक तुम्हारे भैया कभी इतने खुश नहीं हुए थे. उस वक़्त भाभी ने एक टी-शर्ट और केफरी पहनी हुई थी. वो क्या लग रही थी? फिर मैंने कहा कि ऐसा क्या हुआ? Desi sex stories

भाभी : ओह.. देवर जी को बहुत मज़ा आ रहा है. Desi sex stories Sexy Bhabhi

में : ऐसा कुछ बात नहीं है.. में सिर्फ़ इतना जानना चाहता हूँ कि भैया को आपको देखकर कैसा लगा?

भाभी : ऐसा ठीक है चलो सुनो.. तुम्हारे भैया को मैंने सुबह 7 बजे उठाया और वो पहले फ्रेश होने के लिए चले गये फिर में फ्रेश होकर आई और ऐसे ही 7:30 बज चुके थे.

भैया : चलो क्या आज जिम नहीं चलना है?

भाभी : फिर मुझे ध्यान में नहीं आया कि में तो आज अपने पति को चकित करने वाली थी और फिर मैंने कहा कि हाँ चलना है. फिर में वॉशरूम में गयी और मैंने शॉर्ट और ब्रा पहन ली जैसे ही में बाथरूम से बाहर आई तुम्हारे भैया की आँखें खुली की खुली रह गयी. उन्होंने कहा कि तुमने यह सब कब खरीदा? तो मैंने कहा कि यहाँ पर आने से पहले.

में : आपने यह क्यों नहीं कहा कि यह सब मैंने लेकर दिया है?

भाभी : पागल हो क्या? तुम्हारे भैया यह सब सुनते तो उन्हे कैसा लगता कि तुमने मुझे ब्रा लाकर दी? अब चलो छोड़ो और आगे की कहानी सुनो.

फिर उन्होंने कहा कि अचानक ऐसा परिवर्तन कैसे? तो मैंने कहा कि यह परिवर्तन आपके लिए ही है. फिर हम दोनों नीचे गये और सब लोग मुझे ही घूर रहे थे. मुझे बहुत माज़ा आ रहा था, कि सब लोग मुझे ही देख रहे थे. तो हम लोग जैसे ही जिम में अंदर गए. वहां पर सबका ध्यान मेरे ऊपर था, क्योंकि कोई भी औरत ने मेरी तरह एकदम फिट कपड़े नहीं पहने थे. फिर हमने थोड़ी एक्ससाईज की और फिर मैंने कहा कि चलो अब तैराकी करने चलते है. तो हम लोग जिम में से निकले और फिर में चेंजिंग रूम में गयी.

मैंने वन पीस वाला तैराकी सूट पहन लिया, जो पीछे से पूरा जाली का था. और जिससे कि मेरी गांड पूरी दिख रही थी और मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. फिर में कपड़े से ढककर बाहर चली गयी और तुम्हारे भाई बाहर मेरा इंतज़ार कर रहे थे. और जैसे ही में उनके पास पहुंची, तो तुम्हारे भैया बोलने लगे कि वाह यह बहुत अच्छी है.. लेकिन अभी तक उन्होंने नीचे नहीं देखा था. फिर जैसे ही में पूल के पास पहुंची और मैंने कपड़ा उतारा तो तुम्हारे भैया ने मेरी गांड देखी और वो कहने लगे कि यह क्या है? तो मैंने कहा.

भाभी : तैराकी का सूट क्यों क्या आपको पसंद नहीं आया?

भैया : बहुत अच्छा है.. लेकिन आज से पहले तुम्हे कभी ऐसे नहीं देखा.

भाभी : यह सब खरीदने में तुम्हारे भाई की पसंद है.

में : क्या? लेकिन आपने मेरा नाम क्यों लिया?

भाभी : अरे अब तुम सुनो तो सही इसके आगे क्या हुआ?

भैया : ओह्ह मतलब आज से शॉपिंग के लिए मुझे रोहन को ही तुम्हारे साथ भेजना पड़ेगा.

भाभी : क्यों? तुम नहीं चलोगे.

भैया : नहीं.. क्योंकि मेरी इतनी सेक्सी पसंद नहीं है और रोहन को यह सब पसंद है.

भाभी : ठीक है, ठीक है.. क्या अब स्विमिंग करें?

फिर हमने थोड़ा टाईम स्विमिंग की और फिर मैंने कहा कि चलिए रूम पर चलते है.

भैया : हाँ चलो नहाकर फिर हमें घूमने भी तो जाना है.

भाभी : फिर हम रूम में आए और..

और क्या भाभी आगे भी तो बताओ सॉरी आगे में तुम्हे नहीं बता सकती?

लेकिन क्यों नहीं बता सकती? वो अभी में नहीं बता सकती कि आगे क्या हुआ? तो ठीक है फिर क्या हुआ?

भाभी : फिर हमने नाश्ता किया और तुम्हारे भैया को कहीं काम से जाना था और फिर में तुम्हारे पास आ गई.. लेकिन भाभी आप तो बीच पर गये थे क्यों वहां पर क्या हुआ?

भाभी : नहीं टाईम ही नहीं मिला.

में : तो फिर बिकनी की बुरी किस्मत.

भाभी : क्या मतलब?

में : उन्होंने बाहर की दुनिया अभी तक देखी ही नहीं.

भाभी : तो क्या हुआ हम चले चलते है.

में : कहाँ बीच पर?

भाभी : हाँ चलो चलते है.

में : ठीक है आप रूम में चलो में आपके रूम में तैयार होकर आता हूँ.

भाभी : ठीक है जब तक में भी तैयार हो जाती हूँ.

फिर मैंने जल्दी से शर्ट और केफरी पहनकर भाभी के रूम की बेल बजाई और जैसे ही में अंदर घुसा क्या नाज़ारा था? भाभी ने काली कलर की बिकनी पहनी हुई थी.. वाह वो एकदम मस्त लग रही थी.