भाभी की चुदाई गोवा में – भाग २

तो फिर भाभी ने कवर ऊपर पहन लिया और फिर हम लोग रूम से बाहर निकले और लॉबी में गये लॉबी में सब भाभी को घूर घूर कर देख रहे थे और फिर मैंने रिशेप्शन पर एक प्राइवेट बोट के लिए बात कि तो उन्होंने हमे पता दिया और हमने एक टेक्सी ली और वहां पर पहुंच गये और हम उस बोट वाले को ढूँडने लगे और हमे वो बोट वाला मिला और फिर हम बोट पर चले गये और अंदर एक रूम में भाभी और में वहां पर बैठे थे और फिर वहां वो बोट वाला आया और हमसे पूछने लगा कि हमे क्या देखना है? तो भाभी कहने लगी कि हमे एक प्राईवेट बीच पर जाना है जहाँ पर कोई नहीं जाता हो.

बोट वाला : ऐसा एक बीच तो है.. लेकिन वहां पर कुछ लोग जाते है.

तो फिर हमने कहा कि ठीक है और हम वहां के लिए निकल गये. तो में कहने लगा कि..

में : क्या भाभी आपने ऐसा क्यों कहा कि हमे एक प्राईवेट बीच पर जाना है? मैंने यह बोट सिर्फ़ घूमने के लिए करवाई है.

भाभी : वो ऐसे ही.. लेकिन अगर हम इसमें घूमेंगे या कहीं पर रुक जाए तो भी उतने ही पैसे लगेंगे.

में : लेकिन आपने ऐसा क्यों कहा कि हमे ऐसी जगह पर लेकर जाओ जहाँ पर कोई नहीं आता हो?

भाभी : मुझे बिल्कुल भी पसंद नहीं है कि लोग मुझे घूरे वैसे भी मैंने ऐसी बिकनी पहनी हुई है उसकी वजह से लोग मुझे ज़्यादा घूरेंगे इसलिए मैंने कहा कि ऐसी जगह पर चलो जहाँ पर कोई नहीं आता हो.

में : लेकिन भाभी आप ऐसी बिकनी पहनोगी तो लोग आपको घूरेंगे ही ना.

भाभी : ऐसी बिकिनी मुझे पहनना पसंद है और मुझे छोटे कपड़े पहनना बहुत पसंद है.. लेकिन लोग घूरते है इसलिए में ज़्यादा नहीं पहनती हूँ और इसलिए में हमेशा सादे कपड़े पहना करती थी.. लेकिन यहाँ पर फिर भी थोड़ा ठीक है. मेरा बस चले तो में सिर्फ़ बिकनी में या फिर नंगी घूमूं.

में : ऐसी एक जगह है जहाँ पर आप नंगे या बिकनी में जैसे चाहे घूम सकते हो.

भाभी : हम लोग ट्राई करेंगे और अगली बार हम उस जगह पर जाएँगे.. ठीक है.

फिर हमने बोट वाले ने बुलाया उसने कहा कि वो जगह आगे है तो फिर हम बोट में उतरे और बोट वाला हमे उस जगह पर ले गया और जहाँ पर उसने हमे छोड़ा था वहां पर कोई भी नहीं था और उसने बताया कि यह पिछला हिस्सा है. इसके आगे की साइड में कुछ लोग आते है.. लेकिन यहाँ पर कम लोग आते है और वो हमे कुछ ज़रूरत के समान जैसे कुर्सी, टावल, साबुन, तेल, और कुछ सॉफ्ट ड्रिंक्स देकर चला गया.

फिर मैंने और भाभी ने कपड़े उतारे और में केफरी में और भाभी बिकनी में थी और फिर हम पानी में चले गये और तैरकर मस्ती करने लगे और फिर कुछ टाईम के बाद हम बाहर निकले और फिर हम कुर्सी पर लेट गये और सॉफ्ट ड्रिंक्स पीने लगे थोड़े देर के बाद मुझे भाभी ने कहा कि मेरी पीठ पर तेल से मसाज कर दो तो में उठा और भाभी उल्टी लेट गयी और अपने टॉप का रस्सी को खोल दिया और अब उनकी पीठ पूरी नंगी थी. उनकी पीठ को हाथ लगाते से ही मेरा लंड उठने लगा.. लेकिन मैंने सेफ्टी के लिए केफरी के अंदर अंडरवियर पहना हुआ था इसलिए ज़्यादा नहीं दिख रहा था. तो मैंने उनकी फुल मसाज की गांड और जांघ को छोड़कर बाकी सब मसाज किया. फिर मैंने भाभी से कहा कि अब में चला.

भाभी : कहाँ पर? अभी तो गांड और जांघ की मसाज बाकी है.

में : (अरे वाहह आज तो मस्त मस्त मिल्की गांड पर हाथ लगाने का मौका मिलेगा) तो ठीक है भाभी.

फिर मैंने थोड़ा सा तेल लिया और मसाज करने लगा.

भाभी : तुम तो बहुत अच्छी मसाज करते हो.

में : धन्यवाद भाभी.

भाभी : क्या तुमने इससे पहले किसी और की भी मसाज की है?

में : नहीं भाभी.

भाभी : झूठ मत बोलो मुझे पता है तुमने अपनी गर्लफ्रेंड की मसाज की है.

में : लेकिन आपको कैसे पता?

भाभी : तुम्हारे सेल फोन से.

में : मोबाइल से? कैसे

तो भाभी ने मुझे बताया कि उन्होंने मेरी गर्लफ्रेंड का मैसेज पड़ लिया था जिसमे लिखा हुआ था कि धन्यवाद जानू इस सेक्सी मसाज के लिए अब मुझे चुदाई का इंतजार है. तो मैंने कहा कि तो क्या हुआ भाभी मसाज तो में करता ही हूँ ना?

भाभी : इसलिए तो मैंने ड्राइवर से कहा कि हमे ऐसी जगह लेकर चलो जहाँ पर कोई नहीं आता हो.

में : अब समझा आपको मुझसे मसाज करवानी थी इसलिए आप मुझे इतनी दूर लेकर आए.

भाभी : हाँ चलो अब मसाज करो.

फिर में मसाज करने लगा और सोचने लगा कि काश भाभी के फ्रंट की भी मसाज कर सकूँ और देखते ही देखते भाभी के पूरे पीछे के हिस्से की मैंने मसाज कर दी और फिर भाभी से कहा कि मसाज हो गयी.

भाभी : चलो अब आगे की भी मसाज कर दो.

में : क्या? desi sex stories

भाभी : आगे की भी तो मसाज करनी बाकी है.

मेरे मन में लड्डू फूटने लगे और फिर जैसे ही भाभी सीधी हुई और उन्होंने उनका टॉप उतारा और अब उनके बूब्स नंगे थे वो भी मस्त फुल बड़े बड़े और फिर वो पूरी ही नंगी थी. फिर मैंने तेल लेकर उनके पेट की तेल से मसाज करने लगा फिर कमर की. तो भाभी ने कहा कि अरे यहाँ पर मेरे बूब्स बाकी है उनकी कौन मसाज करेगा?

में जैसे सातवें आसमान पर था और मैंने उसी वक़्त तेल लिया और उनके बूब्स पर डाला और उनके बूब्स की मसाज करने लगा क्या मस्त लग रहा था दोस्तों.. क्योंकि इतने बड़े बूब्स तो मेरी गर्लफ्रेंड के भी नहीं थे. फिर में उनको ज़ोर ज़ोर से मसाज करने लगा और भाभी सिसकियाँ लेने लगी. फिर भाभी कहने लगी कि थोड़ा ज़ोर से दबाकर करो.

तो में उनके बूब्स को मुहं में लेकर और ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा उनके निप्पल को काटने लगा क्या बताऊँ दोस्तों क्या मज़ा आ रहा था गर्लफ्रेंड के साथ भी इतना मज़ा नहीं है जितना शादीशुदा औरत के बूब्स में आता है. फिर मैंने उनके बूब्स चूसते चूसते उनकी पेंटी के अंदर हाथ डाल दिया और चूत को दबाने लगा और वो अपना हाथ मेरी कैफ्री में डालकर मेरे लंड को दबाने लगी और फिर मैंने भाभी की पेंटी उतारी और उनकी चूत को देखा एकदम साफ थी.. कहीं पर एक भी बाल नहीं था.. desi sex stories