गुसलखाने का बंद दरवाज़ा खोला-2

प्रिय अन्तर्वासना के पाठकों आप सब को टी पी एल का हार्दिक अभिनन्दन! आशा करती हूँ कि आप सब अन्तर्वासना की रोचक रचनाएँ पढ़ कर अपनी वासना को जागृत एवं उसमे लगातार वृद्धि कर रहे

Continue reading

बच्चे के लिए आश्रम में रंगरलिया-1

मेरा नाम विदिशा सिंह है. मैं मध्य प्रदेश के एक छोटे से शहर में रहती हूँ. जब मैं 23 बरस की थी तो मेरी शादी श्रीनाथ के साथ हुई . श्रीनाथ की अपनी एक दुकान

Continue reading